मौलाना अबुल कलाम

साहित्य के माध्यम से भारतीय कला, संस्कृति और दर्शन को प्रसारित करने के लिए, आईसीसीआर के संस्थापक अध्यक्ष, मौलाना अब्दुल कलाम आज़ाद ने अरबी, फारसी, उर्दू और अन्य भाषाओं की 10,000 पुस्तकों का अपना संग्रह परिषद को उपहार में दिया। पुस्तकों और पांडुलिपियों के इस दुर्लभ संग्रह को आईसीसीआर में एक विशेष परिक्षेत्र गोशा-ए आज़ाद ’में रखा गया है। गोशा-ए आज़ाद में अरबी, उर्दू और फ़ारसी भाषा की लगभग 197 दुर्लभ पांडुलिपियाँ शामिल हैं, जिनमें से कुछ तात्विक मूल्य को हैं और पुरातनता का चिन्हीकरण भी करते हैं।

वर्तमान में, परिषद दुर्लभ पांडुलिपियों के इस संग्रह के डिजिटलीकरण की प्रक्रिया कर रहा है। राष्ट्रीय पाण्डुलिपि संग्रहालय, अरबी, उर्दू और फारसी की 197 पांडुलिपियों का प्रलेखन, संरक्षण और डिजिटलीकरण की प्रक्रिया कर रहा है।

आईसीसीआर ने मौलाना आज़ाद के व्यक्तिगत संग्रह से उर्दू, अरबी और फ़ारसी पुस्तकों की एक सटिप्पण सूची भी तैयार की है।

Gosha-e-azad
Sr.No. शीर्षक Download/Details
1 मौलाना आज़ाद की जीवनी डाउनलोड (184.12 KB) pdf
2 मौलाना आज़ाद का आईसीसीआर उद्घाटन भाषण डाउनलोड (5.05 MB) pdf
3 मौलाना आज़ाद फोटो गैलरी Details
4 आज़ाद संग्रह के स्रोत Details
5 मौलाना अबुल कलाम Details